जल्द ही लॉन्च होगी भारत में एक ऐसी वोट जो करेगी समुद्री कचरा साफ और इस बोट को नहीं होगी किसी चालक की जरूरत सौर ऊर्जा से होगी सेल्फ ड्राइव:

अब भारत में जल्द ही लॉन्च होने वाली है समुद्रों की सफाई करने के लिए एक अद्भुत क्लियर बोट भारत में समुद्र में जमा गंदा पानी को स्वच्छ और साफ करती है। इसे चलाने के लिए किसी चालक की जरूरत नहीं होती है सौर ऊर्जा की मदद से खुद चलती है। यह हांगकांग स्थित समुद्री तकनीकी स्टार्टअप क्लियर वोट है। यह बोट समुद्र में से लगभग 500 किलोग्राम तक का कचरा आसानी से उठा सकती है और समुद्रों को यह क्लियर बोट एकदम क्लियर कर देती है। इस बोर्ड के लांच होने की संभावना मार्च तक है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस क्लियर बोट का निर्माण हांगकांग की एक यूनिवर्सिटी के स्नातक उत्कर्ष गोयल और सिद्धांत गुप्ता ने स्टार्टअप शुरू किया था वह उनका उद्देश्य कुछ ऐसी बोट्स का निर्माण करना था कि जो खुद समुद्र की सफाई कर सकें और सेल्फ ड्राइव हो तब उन्होंने इस वोट को अंजाम दिया।

एक स्टूडेंट प्रोजेक्ट के तौर पर सन् 2019 में क्लियर बोट की स्थापना हुई थी। इसकी जरिए इंडोनेशिया के सर्फरों को जलमार्गों को आसानी की आसानी से साफ सफाई करने में काफी मदद मिली। इस प्रोजेक्ट से सिद्धांत और उत्कर्ष को एक लेवल तक समुद्री सेवा उद्योग में सस्टेनेबल इंफ्रास्ट्रक्चर डिमांड को नॉलेज में लाने के लिए जागरूक किया।

भारत में भी चल रहा है काम

2021 की साइंस एडवांसेज रिसर्च के अनुसार दुनिया में जितने भी महासागर है उनमे से प्लास्टिक का तकरीबन 13% हिस्सा भारत में बताया गया है। क्लियर बोट द्वारा भारतीय शिलांग में एक प्रोजेक्ट किया गया था। इस प्रोजेक्ट में क्लियर बोट के द्वारा 3 दिन के अंदर लगभग 600 से 700 किलोग्राम कचरा निकल गया था। इसके साथ ही क्लियर बोट का दक्षिण भारत बेंगलुरु में भी एक प्रोजेक्ट है।

यह भी पढ़ें  आरबीआई के नए प्लान के तहत अब नहीं देना होगा ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान ओटीपी (OTP)

क्लियर बोर्ड ने भारत में व्यवसायिक उपयोग के लिए नई और बड़ी बोट्स का काम शुरू कर दिया है इसके लांच होने की संभावना अगले साल जताई जा रही है। WWF के मुताबिक हर साल लगभग 11 टन कचरा महासागरों में स्थित होता है जो हर प्रति मिनट एक ट्रक के बराबर हो जाता है। यह व्यक्ति के लिए खतरा पैदा कर सकता है। क्लियर बोट का काम कार्बन उत्सर्जन करना नहीं है क्योंकि यह बिजली दे लिए डीजल की जगह सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करता है।

इसलिए बेशक हम कह सकते हैं कि इस क्लियर बोर्ड तकनीक से भारत की समुद्रों से जुड़ी समस्याएं दूर होंगी यह तकनीक भारत में जल्दी लॉन्च होगी इससे भारत की महासागरों के लिए व अन्य महासागरों की भी साफ सफाई काफी अच्छे तरीके से की जा सकेगी और समुद्र, महासागर समुद्र साफ नजर आएंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top