हार्ट अटैक आने के क्या कारण हो सकते हैं और किस वक्त सबसे ज्यादा हार्ट अटैक आने की संभावना रहती है

आपको बता दे सबसे ज्यादा हार्ट अटैक ज्यादातर लोगों को 6 से 9 के बीच में आता है यह समय सुबह का होता है आईये इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

हार्ट अटैक की समस्या अब आम बन चुकी है यह बच्चों से लेकर बड़ों बूडो तक में देखने को मिल रही है आजकल दिल का दौरा आम समस्या बन चुकी है यह एक ऐसी समस्या है जिसका हमें गौर करना चाहिए यह सब हमारे लाइफस्टाइल चैन्ज होने की वजह से भी हो सकता है जैसे कि अस्वस्थ खाना पान से, व्यायाम नहीं करना, पर्याप्त नींद ना लेना ,सिगरेट, शराब, स्मोकिंग करना, इसके अलावा भी एक खास समय होता है जब हार्ट अटैक आने के ज्यादा चांसेस होते हैं।

हार्ट अटैक आने के किस वक्त सबसे ज्यादा चांसेस रहते हैं

ज्यादातर लोगों को हार्ट अटैक सुबह के टाइम 6 से 9 के बीच में आने की संभावना ज्यादा होती है। जब हम सुबह सोकर उठते हैं तो की संभावना ज्यादा होती है। जब हम सुबह सोकर उठते हैं तो हमारा कोलेस्ट्रॉल ज्यादा बड़ा हुआ होता है यह कोर्टिसोल हारमोंस का कार्य रक्तचाप को बढ़ाना होता है जिससे दिल पर दबाव ज्यादा पड़ने लगता है जिससे हार्ट अटैक आने के चांसेस ज्यादा होते हैं कुछ ऐसे पदार्थ जो खून का थक्का जमाने में मदद करते हैं जिससे हार्ट अटैक आता है इसलिए हार्ट अटैक आने के ज्यादातर चांसेस सुबह के रहते हैं क्योंकि यह पदार्थ सुबह में ज्यादा मौजूद होते हैं।

मॉर्निंग में ही क्यों आ सकता है हार्ट अटैक

यह कई साइंटिफिक कारण हो सकते हैं दरअसल जब हम सो कर उठते हैं तो कोलेस्ट्रॉल नाम का हार्मोन जो हमारे शरीर में पाया जाता है वह हार्मोन सुबह के टाइम ज्यादा होता है यह हार्मोन को स्ट्रेस हार्मोन भी कहते हैं। इसमें ब्लड फ्लो तेजी से होने लगता है और हार्ट का ज्यादा वर्क करने का कारण उसकी हार्टबीट तेजी से बढ़ने लगती है और दिल पर ज्यादा भार पड़ता है जिसके कारण दिल का थक्का जमने लगता है इस वजह से हार्ट अटैक हो जाता है इसके अतिरिक्त खून वाहिनियों का ज्यादा संकुचित हो जाना जिससे ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है जो हमारे हृदय को प्रभावित करता है जिससे हमें हार्ट के संबंधित बीमारी हो जाती हैं तथा देखा जाए तो सुबह के समय फाइब्रिनोजेन नामक प्रोटीन का स्तर भी हाई होता है जिसके कारण रक्त को थक्का जमाने और गाढ़ा करने में मदद करता है इसके कारण से हार्ट भी प्रभावित होता है और हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें  अनिल अंबानी की रिलायंस कैपिटल को मिलने जा रहा है नया मलिक राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण द्वारा रिलायंस कैपिटल के नए मालिक को मिली मंजूरी:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top