Paytm field मैनेजर गौरव गुप्ता ने की आत्महत्या, पति की मृत्यु के 3 दिन बाद पत्नी ने खाया ज़हर। हालत नाज़ुक।

तो दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक आत्महत्या की घटना। हम अक्सर यह सुनते रहते हैं कि इंसान परेशान होकर आत्महत्या कर लेता है। और अगर बात की जाए आदमियों की तो अक्सर उनकी आत्महत्या के पीछे उनकी नौकरी से जुड़ी या कोई फाइनेंशियल प्रोब्लम ही होती है। लेकिन आज हम जिसकी बात कर रहे हैं, यह दावा किया जा रहा है कि उनके साथ नौकरी से जुड़ी कोई परेशानी नहीं थी। तो दोस्तों हम बात कर रहे हैं पेटीएम फील्ड मैनेजर गौरव गुप्ता की, जिन्होंने 25 फरवरी को फांसी लगा ली थी। दरअसल, गौरव गुप्ता का घर ग्वालियर के जनकगंज थाना क्षेत्र की समाधिया कॉलोनी तारागंज में है। और वह फिलहाल में इंदौर में बतौर पेटीएम फील्ड मैनेजर तैनात थे। गौरव ने इंदौर में जिस घर में रहते थे उन्होंने 25 फरवरी को उसमें फांसी लगा ली थी। आइए जानते हैं घर वालों ने इस पर क्या बयान दिया है।

तो दोस्तों, गौरव के घर वालों का कहना है को पेटीएम में पिछले दिनों मची खलबली की वजह से गौरव ने फांसी लगाई है। घर वालों द्वारा बताया गया है कि गौरव को नौकरी जाने का दर था और उसी वजह से उसने डिप्रेशन में फांसी लगा ली। घर वालों के इस बयान ने गौरव गुप्ता की मौत के कारणों की दिशा को भी बदल दिया है। ग्वालियर में रहने वाले गौरव के परिजन उसका शव इंदौर से ग्वालियर ले आए थे और 27 फरवरी को उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। और जब कल सुबह घर वाले अस्थि संचार के लिए जा रहे थे तभी गौरव की पत्नी मोहिनी ने कुछ ज़हरीली चीज़ खा ली और बाथरूम में जा कर लड़खड़ा कर गिर गईं। आवाज़ सुन कर परिजनों ने मोहिनी को संभाला और उसे जब पूछ ताछ करी तो उसने बताया की उसने ज़हर खा लिया। आनन फानन में परिजन मोहिनी को लेकर जयारोग्य अस्पताल पहुंचे और उसे भर्ती कराया।

यह भी पढ़ें  एक ऐसे स्टेट में निकली टीचर्स की वैकेंसीज 11000 से भी ज्यादा कैंडीडेट्स इस जॉब के लिए कर सकते हैं 2 अप्रैल तक अप्लाई:

मीडिया से बातचीत के दौरान गौरव गुप्ता के ममेरे भाई ने एक बहुत ही बड़ी बात बताई है, जिसकी वजह से अब गौरव की मौत को लेकर कई बातें आ रही हैं। गौरव के ममेरे भाई नीरज गुप्ता ने कहा कि, हम भैया की अस्थि संचार के लिए जा रहे थे और उसकी वक्त भाभी ने ज़हर खा लिया। और जब हम लोगों ने उनसे पूछा तो उन्होंने कहा कि ‘मैं तो एक हफ्ते से ज़हर खाने की कोशिश कर रही थी।’ लेकिन इसमें एक अलग और खास बात भी सामने आई है और वह बात यह है कि गौरव ने मोहिनी को ज़हर खाने से रोका था एक हफ्ते पहले। नीरज ने बताया है कि मोहिनी ने कहा कि ‘गौरव ने मुझे ऐसा करने से रोक लिया था और खुदने फांसी लगा ली तो अब के जी कर क्या करूंगी।’

बातचीत के दौरान नीरज ने यह भी बताया कि गौरव को कोई दिक्कत नहीं थी, ना पारिवारिक परेशानी थी और ना ही फाइनेंशियल परेशानी थी, उसका 9 लाख का सालाना का पैकेज था, और उन्हें जॉब से निकाले जाने का भी डर नहीं था। उन्होंने कहा था कि अगर पेटीएम बैंक बंद भी होती है तो उन्हें पेटीएम वॉलेट में ले लेते, वह सात साल से पेटीएम में था। नीरज ने कहा कि हमें भाभी के बयान से ऐसा लगता है कि इन दोनों के बीच कुछ विवाद चल रहा था, जिसके कारण भाई ने फांसी लगा कर जान दे दी। और अब हम यह चाहते हैं कि पुलिस बरीखी से जांच करके सच्चाई सामने लाए। इस पर एडिशनल एसपी निरंजन शर्मा ने कहा है कि शुरुआती पड़ताल में पति की मौत से दुखी होकर मोहिनी नामक महिला ने ज़हर खा कर जान देने की कोशिश करी। जनकगंज थाना पुलिस उसके ठीक होने का इंतज़ार कर रही है, और उसके बाद पूरे मामले की जांच पड़ताल की जाएगी।

यह भी पढ़ें  यूपी कांस्टेबल भारती के लिए हुई परीक्षा फर्जी एडमिट कार्ड को लेकर मचा बवाल, जिसमें नाम और फोटो सनी लियोन की थी, लेकिन विद्यार्थी कोई और ही निकला :

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top