22 साल की उम्र में बीटेक करे पानी पूरी यह लड़की बनी आज के नौजवानों के लिए मिसाल तय किया स्कूटी से थार तक का सफर

बीटेक पानी पुरी वाली यानी कि इसका नाम तापसी उपाध्याय है जिसकी उम्र सिर्फ मात्र 22 साल की है यह मेरठ में रहने वाली छात्रा है जिसने बीटेक किया लोगों ने बीटेक पानी पुरी वाली नाम से फेमस कर दिया है।

आज हम एक ऐसी लड़की की कहानी बताने जा रहे हैं जो आज के नौजवानों के लिए मिसाल बन चुकी है अगर किसी व्यक्ति को सफल होने हेतु अनेक संघर्षों का सामना करना पड़ता है जैसे कि अगर मंजिल तय नहीं करोगे तो रास्ता कैसे मिलेगा। कॉलेज जाने की उम्र में जब बच्चे अपनी पढ़ाई को लेकर उत्साहित रहते हैं और अपनी लाइफ में एंजॉय करते हैं तब इस लड़की ने बिजनेस करना स्टार्ट कर दिया था बिजनेस करने का फैसला सफल भी हुआ आज वह फेमस हो गई है तो चलते हैं फिर आगे के सफर में इन्होंने किस तरह से स्कूटी से थार तक का सफर तय किया।

तापसी उपाध्याय मेरठ में रहने वाली 22 साल की छात्रा है जिसे लोगों ने बीटेक पानी पुरी बाली के नाम से मशहूर कर दिया है उन्होंने अपने जीवन में ही बचपन से ही अनेक काम किया जिसमें सफलता ही प्राप्त हुई और बचपन से ही कई संघर्षों का सामना भी करना पड़ा उन्होंने बचपन से ही वह नाम कमाना चाहती थी पढ़ने की टाइम पर उन्होंने तिलक नगर जेल रोड पर पानी पूरी का स्टाल लगाया जो दक्षिण डिलाइट के नाम से फेमस है।

तापसी उपाध्याय ने अपनी जिंदगी में अनेक संघर्षों का सामना करा तापसी उपाध्याय ने बताया कि हमारी जिंदगी में अनेक कठिनाइयां आए जिनका हमने मजबूती के साथ सामना किया। तापसी ने स्कूटी से थार का सफर तय किया वहां वे अपने स्टॉल का सामान ढोकर लाती थी फिर उसके बाद बुलेट ली बुलेट से यह काम को जारी रखा और सफलता प्राप्त की। उन्होने कभी हार नहीं मानी बहुत से लोगों ने उन्हें गिराने की भी कोशिश की भड़काया लेकिन वह कभी किसी की बातों में नहीं आती थी वह संघर्षों की राह पर चलती रही यही सोचकर कि एक दिन मंजिल मिल ही जाएगी और फिर क्या था उनको वह मंजिल मिली भी जिसका उन्हें इंतजार था। संघर्ष करते हुए वह सफलताएं हासिल कर चुकी हैं और उन्होंने कहा अगर आप संघर्ष करते हो तो कुछ भी हासिल कर सकते हो आजकल के नौजवानों को यह प्रेरणा देना चाहती हूं अगर आपको जिंदगी में कुछ पाना है, कुछ करना है तो आपको संघर्ष ही करना पड़ेगा जब भी आप खुद के दम पर कुछ कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें  ₹3000 के लोगों पर पहुंचे मखाने के दाम किसानों के लिए है यह शानदार मौका

तापसी उपाध्याय ने दिल्ली के एनसीआर में 40 से ज्यादा पानी पुरी स्टॉल लगाए और साथ में दोसा स्टॉल भी लगे उन्होंने सबसे पहले पानी पूरी स्टॉल से अपनी जिंदगी की शुरुआत की थी इसके बाद सारे लोगों के लिए डोसा स्टॉल लेकर आई जिसमें लोगों ने काफी उन्हें पसंद किया आजकल की नौजवानों को प्रेरणा यह मिलती है इस उदाहरण से कि अगर आप लाइफ में कुछ करना चाहते हैं तो कोई काम छोटा बड़ा नहीं होता है बस जज़वा होना चाहिए जरूरी नहीं सरकारी नौकरी या प्राइवेट नौकरी हो अगर आप कुछ कर सकते हैं तो अपना एम पहले डिसाइड करें आपको क्या करना है फिर इसके बाद इस पर संघर्ष करें उदाहरण के लिए तापसी उपाध्याय का सबसे अच्छा उदाहरण है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top