अमृत भारत रेलवे स्टेशन स्कीम बदल देगी 1309 रेलवे स्टेशन को! जानिए क्या है अमृत भारत रेलवे स्टेशन स्कीम।

भारत का विकास तो अब तक आप सबने देख ही लिया होगा कि भारत कितनी तेज़ी से विकसित हो रहा है। भारत के ऐसे बहुत से शहर हैं, जिनकी शकल बदल गईं हैं और जिनकी शकल अभी तक नहीं बदली है तो वो भी बहुत जल्द बदलने वालीं हैं। आए दिन हम कोई ना कोई स्कीम के बारे में तो सुनते ही रहते हैं। और जैसा कि आप सब जानते हैं कि 2024 लोकसभा चुनाव बस करीब आ ही गए हैं, तो ऐसे में भारत के कई शहरों के विकास के लिए प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन भी हुआ है। और अगर देखा जाए तो सबसे ज़्यादा हमने रेलवे स्टेशनों की शकल बदलते देखी है । लेकिन यह काफी नहीं है इसलिए और भी स्टेशनों की शकल बदलते का वक्त आ गया है। हो सकता है शायद आपने इस स्कीम के बारे में अभी तक सुना ही ना हो, तो आइए बताते हैं इस स्कीम के बारे में।

अमृत भारत रेलवे स्टेशन स्कीम।

रेलवे देश की धड़कन है, रोज़ाना इसके द्वारा लाखों लोग अपनी मंजिल तक पहुंचते हैं। हालांकि, देश में बढ़ रहे शहरीकरण, मिडिल क्लास की डिमांड और पर्यटन के प्रति बढ़ते रुझान ने रेलवे को भी बदलाव की दौड़ में शामिल कर दिया है। और जैसा कि आप जानते ही हैं कि जब से वंदे भारत चली है तब से यात्रियों का सफर और भी सुहाना हो गया है। अब ट्रेनों का बदलाव तो होना शुरू हो ही गया है तो इसके साथ ही अब रेलवे स्टेशन के बदलाव की भी बारी आ गई है। जिसके चलते एक योजना सरकार ने जारी कर दी है जिसका नाम है ‘अमृत भारत रेलवे स्टेशन स्कीम’ । इस योजना के तहत रेलवे स्टेशनों को बदलने की प्रक्रिया जारी है।

यह भी पढ़ें  भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL): आ गई है बेरोजगारों के लिए खुशखबरी!! BEL सरकारी नौकरी के आवेदन शुरू, 7 मार्च 2024 तक कर सकते हैं आवेदन।

अमृत भारत रेलवे स्टेशन स्कीम को फरवरी 2023 में लागू किया गया था। इसके अंतर्गत, 1309 रेलवे स्टेशनों को रीडेवलप किया जाना है। इसमें रेलवे स्टेशनों को आधुनिक बनाना, यात्री सुविधा को और अच्छा करना,यात्रियों का मैनेजमेंट और बेहतर साइन सिस्टम बनाए जाना है। इस योजना के अंतर्गत नवंबर 2023 तक 508 रेलवे स्टेशनों पर विकास कार्य शुरू हो चुका था और अब तक और भी रेलवे स्टेशनों के विकास का कार्य 1 मार्च से प्रारंभ होने वाला है। इस काम को चरणों में पूरा किया जाएगा। और हम आपको बता दें कि रेलवे स्टेशनों के विकास के लिए 24,470 करोड़ रूपए खर्च किए जाने वाले हैं। और काम पूरा हो जाने के बाद यह स्टेशन एक मॉडल के रूप में तब्दील हो जाएंगे।

रेलवे स्टेशन के विकास के बाद, यात्रियों को और भी बेहतर सुविधाएं मिलेंगी और उनका सफर भी आरामदायक हो जाएगा। वैसे देखा जाए तो अभी भी बड़े बड़े शहरों के रेलवे स्टेशन देखने में बहुत खूबसूरत और साफ नज़र आते हैं लेकिन जो छोटे छोटे रेलवे स्टेशन हैं अब वो भी इनके जैसे ही खूबसूरत होने वाले हैं जल्द ही। रेलवे स्टेशन को शहर का चेहरा माना जाता है, चाहे वो कोई सा भी शहर हो क्योंकि कोई भी कही से भी किसी शहर में जाता है तो सबसे पहले वह रेलवे स्टेशन पर ही कदम रखता है और रेलवे स्टेशन को देख कर ही उस शहर का इंसान अंदाज़ा लगाने लगता है। और इसके साथ ही इन्हें इन्फ्रास्ट्रक्चर हब के रूप में भी देखा जाता है।

यह भी पढ़ें  चीन बढ़ा रहा अपने परमाणु हथियार, क्या यह भारत के लिए खतरे की घंटी है? 2030 तक नहीं लग रहे इरादे नेक।

हम आपको बता दें कि इस योजना के तहत यात्रियों को साफ और हाइजीनिक वेटिंग रूम, रेस्टरूम बनाए जाएंगे। और इसके साथ ही खाने पीने के भी अच्छे स्टॉल लगाए जाएंगे। यात्रियों और गाड़ियों के आने जाने के लिए अलग अलग प्वाइंट बनाए जाएंगे। इसमें रोड भी चौंड़ी होंगी और पार्किंग सुविधा उपलब्ध कराई जाएंगी। रेलवे स्टेशनों को बस, टैक्सी, और ऑटो रिक्शा स्टैंड से जोड़ा जाएगा। और इसके साथ ही यात्रियों के लिए निर्देश स्पष्ट और कई तरह की भाषाओं में लिखे जाएंगे। तेज़ रोशनी की व्यवस्था और उपकरणों के लिए वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों का इस्तेमाल किया जाएगा। रैन वॉटर हार्वेस्टिंग और हरियाली का भी अच्छा इंतज़ाम किया जाएगा। और इसके अलावा भी कई तरह की सुविधाएं रेलवे स्टेशनों पर देखने को मिलेंगी। अब आपको जानना यह है कि इस योजना में क्या आपके शहर का भी नाम है और अगर ऐसा है तो आप भी इंतज़ार करें अपने शहर के रेलवे स्टेशन के मॉडल बनने की।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top